बाबू जी रघुवर दयाल वर्मा
जन्म - 10 मार्च 1935
स्थान - नगला पेमा ताजगंज आगरा
शिक्षा - B A मथुरा
M A.LLb आगरा कॉलेज

आपके पिता श्री मूलचंद निषाद जी के यहां जन्म लेकर निषाद समाज के उत्थान के लिए ही नहीं बल्कि सर्वसमाज के लिए काम किया। शिक्षा के बाद आपने 2 वर्ष आगरा दीवानी में वकील प्रक्टिस की उसके फिरोजाबाद के समाज बहुचर्चित बुद्धजीवियों द्वारा आपको राजनीति में भागेदारी की बात की तो आपने तोतलपुर सफीपुर कांड में भाग लेकर उसमें सर्वसमाज के लोगों के लिये बाबू जी ने आगरा कलेक्ट्रेट में भूखहड़ताल कर तत्कालीन गृहमंत्री को बुलाकर इस समस्या से निजात दिलाई। यहाँ से बाबू जी का राजनीति में वर्चस्व स्थापित किया और दूध वाली यूनियन, उंटवाली यूनियन ,भट्ठा यूनियन ,भट्टी यूनियन की आवाज को बुलंद कर उनको हक अधिकार दिलाने का काम किया।

राजनीति-1967 में पहला चुनाव लड़ा जो कि आप हार गए। उसके बाद भी आपने हार नहीं मानी और 1972 में आपने फिर हाथ आजमाया। फिर भी समय को कुछ और ही मंजूर था , जो कि आपको हार का सामना करना पड़ा।

उसके बाद आप राजनीति के खिलाड़ी की तरह मैदान में 1977 में पूरी ताकत से फिरोजबाद का चुनाव लड़ विरोधियों को परास्त कर बहुमत से विधायक बने उसके बाद आपने पीछे मुड़कर नहीं देखा और 1984,1989,1996 में आपने समाज का गौरवशाली इतिहास लिखने का काम किया। उसके बाद आप 1998 में बनमंत्री बनकर जीवन पर्यंत समाज के हर शुखःदुख में साथ दिया । आपने एक पुरोधा की तरह इस समाज की पीड़ा को हर के 17 जून 2011 में आपने इस समाज को अकेला छोड दिया। मैं ऐसे समाज के योद्धा को सत सत नमन करता हूँ ।

जय निषाद राज
DONATE